Wednesday, January 19Persecution of Sanatani/Hindus is Our Persecution.

हिंदू दमन, भारत का दमन है, हम सबका दमन है

hinduhumanrw@gmail.com |

Month: April 2021

Samyavad ke 100 Apradh (Hindi Edition)

Samyavad ke 100 Apradh (Hindi Edition)

Books
साम्यवाद की एक विशेषता रही है। साम्यवादियों ने समाज में पूर्ण समानता लाने के उद्देश्य से प्रेरित होकर समाज व्यवस्था की पुनर्रचना का सपना देखा है, उसे कर दिखाने का यदा-कदा यत्न भी किया है। उनकी नजरों में पूर्ण समानता का अर्थ है कि सभी की जीवन-दशा समान हो जिससे कि सभी समान रूप से विकास के लाभों का रसास्वादन कर सकें। परन्तु साम्यवाद कभी सपफल नहीं हो पाया है। उनकी असपफलता का मूल कारण है मानव प्रवाकृति और समाज की वे दुर्दान्त परिपाटियाँ जो साम्यवाद के रास्ते विरोध् की उफँची दीवार खड़ी कर देती हैं। इन विरोधें, का शमन करने में, उन पर विजय पाने में साम्यवाद अतिनिर्बल सि( हुआ है। इन विरोधें, का शमन करने में, उन पर विजय पाने में साम्यवाद अतिनिर्बल सि( हुआ है। इन विरोधों, बाधओं में सबसे मुख्य बाध उत्पन्न होती है उन आपातिक तत्वों से जिनका सम्बन्ध् नैसर्गिक और संस्कृति-जन्य विषमताओं से है। ...
Hinduism and Monotheistic Religions

Hinduism and Monotheistic Religions

Books
This volume comprises the largest collection of Shri Ram Swarup's writings ever published between two covers. The book includes critiques of Christian and Islamic thought from a Hindu perspective and suggestions on how Hinduism can be practiced in modern times in tune with its deeper spiritual teachings. It also incorporates several short articles and book reviews written for various newspapers and magazines.
Hindu View of Christianity and Islam

Hindu View of Christianity and Islam

Books
Hitherto, scholars have looked at Hinduism through the eyes of Christianity and Islam, but here an attempt has been made to discuss them from the viewpoint of Hindu spirituality. The two prophetic religions have a long history of conflict but they also share a common spiritual perspective. Almost from their birth, they have been systematic persecutors of pagan religions, cultures and nations. In the heyday of their domination, they acquired great prestige and their viewpoint prevailed also in judging the victims. In this book, the author questions the victors' standard of judgement and looks at their religious premises afresh. He discusses monotheism and prophetism - the ideology of a god who has a chosen people (and also chosen enemies), but whom they know only indirectly through a favou...
On Hinduism: Reviews and reflections

On Hinduism: Reviews and reflections

Books
There are two major groups of religions in the world today. First are the conversion-based monotheistic creeds of Christianity and Islam. Second are the pluralistic dharmic traditions of India, of which Hinduism is the oldest and the largest. Chinese Taoism and Japanese Shinto have an affinity with dharmic traditions. So also the indigenous religious traditions of pre-Christian Europeans, pre-Islamic West Asians, Native Americans, Africans, Australians, and Pacific Islanders which are re-awakening, particularly in Europe and the Americas and Africa. As the world has now moved out of colonial domination by monotheistic creeds, a new respect for dharmic traditions is arising everywhere. At the same time, dharmic traditions are beginning to speak against missionary aggression of Christianity...
Jaane-Maane Itihaskar : Karyavidhi, Disha Aur Unke Chhal (Hindi, Arun Shauri)

Jaane-Maane Itihaskar : Karyavidhi, Disha Aur Unke Chhal (Hindi, Arun Shauri)

Books
जून-जुलाई 1988 में प्रगतिवादियों ने अच्छा-खासा बवंडर खड़ा किया। उन्होंने शोर मचाना शुरू कर दिया कि सरकार ने भारतीय इतिहास अनुसन्धान परिषद् में राममन्दिर समर्थक इतिहासकार भर दिये हैं। और जैसी कि उनकी आदत है, उन्होंने एक कपटजाल फैलाकर हलचल पैदा कर दी। इस हलचल ने मुझे उनकी कारगुज़ारियों की जाँच-पड़ताल करने और यह देखने के लिए मजबूर कर दिया कि उन्होंने भारतीय इतिहास अनुसन्धान परिषद् जैसी संस्था का क्या हाल कर डाला था। इसके लिए मैंने उनके द्वारा लिखी गयी पाठ्य पुस्तकों का अध्ययन किया। इन बुद्धिजीवियों और इनके हिमायतियों ने एक शैतानी ढंग से हमारे धर्म की उल्टी तस्वीर पेश की है। हमारे समन्वयवादी धर्म, हमारे लोगों, हमारे देश की बहुलवादी और आध्यात्मिक तलाश को इन्होंने असहिष्णु, संकीर्णमना और दकियानूसी बताया है। दूसरी तरफ़ इस्लाम, ईसाई धर्म और मार्क्सवाद-लेनिनवाद जैसे अपवर्जक, सर्वसत्तावादी धर्मों औ...
Bhagva Aatank ek shadyantra

Bhagva Aatank ek shadyantra

Books
What role did ministers like shivraj Patil, br Chidambaram, to arouse antulay, digvijay Singh and officials like chitkala zutshi, Dharmendra Sharma, Hemant karkare, RV Raju play in the Hindu terror narrative. Here is a version of a man who almost was taken captive and was to be traded for release of ajax kasab, but saved by sheer Providence. In his insider account, author rvs Mani discloses how the country internal security establishment functioned in the period of 2004-2014 when India faced some of the bloodiest terrorist carnage. This former home Ministry official posted in the internal security division between 2006-2010 poses several questions which the nation should seek answers to.
Chhatrapati Shivaji

Chhatrapati Shivaji

Books
मराठा वीर शिवाजी ने किस प्रकार औरंगजेब की कट्टरवादी-संकीर्ण नीतियों का विरोध किया और अपने समकालीन स्वच्छाचारी शासकों से लोहा लिया, इसे लालाजी ने ऐतिहासिक तथ्यों से प्रमाणित किया है। महाकवि भूषण के शब्दों में-हिंदू, हिंदी और हिंद के रक्षक शिवाजी महाराज की स्फूर्तिदायक जीवनी के लेखन की पात्रता लालाजी जैसे देशभक्त में ही थी।छत्रपति शिवाजी के इस जीवन चरित का ऐतिहासिक महत्व तो है ही जिसकी समीक्षा तो मराठा इतिहास के प्रमाणिक विद्वान् ही करेंगे, तथापि सर्वसाधारण को शिवाजी महाराज की एक सुंदर झांकी भी मिलेगी, इस विश्वास के साथ इस ग्रंथ को पाठकों के समक्ष प्रस्तुत किया जा रहा है। ...